Azhar Inayati's ghazal: Kaun kitna badaa madaari hai


Azhar Inayati is a prominent Urdu poet of Ghazal. He has carved a niche for himself as a leading poetic voice from Uttar Pradesh.

अब ये मेयार-ए-शहरयारी है
कौन कितना बड़ा मदारी है

हमने रोशन चिराग़ कर तो दिया
अब हवाओं की जिम्मेदारी है

उम्र भर सर बुलंद रखता है
ये जो अंदाज़-ए-इन्क्सारी है
[inksaari=modesty, humility]

सिर्फ बाहर नहीं मुहाज़ खुला
मेरे अन्दर भी जंग जारी है

एक मुसलसल सफ़र में रखता है
ये जो अंदाज़-ए-ताज़ाकारी है

मिट रही है यहाँ ज़बान-ओ-ग़ज़ल
और ग़ालिब का जश्न जारी है

ab ye meyaar-e-shaharyaari hai
kaun kitnaa baDaa madaarii hai

hamne roshan chiraaG kar to diyaa
ab havaaoN ki zimmedaarii hai

umar bhar sar buland rakhtaa hai
ye jo andaaz-e-inksaarii hai

sirf baahar nahiiN muhaaz khulaa
mere andar bhii jang jaarii hai

ek musalsal safar meN rakhtaa hai
ye jo andaaz-e-taazakaarii hai

miT rahii hai yahaaN zabaan-o-Gazal
aur Ghalib ka jashn jaarii hai

0 comments :

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...