Habib Jalib's ghazal


Habib Jalib was a leading Pakistani poet who raised his voice against the government during the imposition of martial law. Jalib's poetry echoed the sentiments of the society during the repressive regimes.

शेर होता है अब महीनों में
ज़िन्दगी ढल गयी मशीनों में

प्यार की रोशनी नहीं मिलती
इन मकानों में, इन मकीनों में

देख कर दोस्ती का हाथ बढ़ाओ
सांप होते हैं आस्तीनों में

कहर की आँख से न देख इनको
दिल धड़कते हैं आबगीनों में

आसमानों की खैर हो या रब
एक नया अज़्म है ज़मीनों में

वोः मोहब्बत नहीं रही जालिब
हम-सफ़ीरों में, हम-नशीनों में

sher hota hai ab mahiinoN meN
zindagi Dhal gayii mashiinoN meN

pyaar kii roshnii nahiiN miltii
in makaanoN meN, in makiinoN meN

dekh kar dostii kaa haath baDhaao
saaNp hote haiN aastiinoN meN

qahar kii aaNkh se na dekh inko
dil dhaDakte haiN aabgiinoN meN

aasmaanoN kii Khair ho yaa Rab
ek nayaa azm hai zamiinoN meN

voh mohabbat nahiiN rahii Jaalib
ham-safiiroN meN, ham-nashiinoN meN

0 comments :

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...